July 25, 2020

माध्यमिक शिक्षकों के दस्तावेजों की स्क्रुटनी शुरू

 

Lucknow. प्रदेश में फर्जी दस्तावेजों के सहारे नौकरी पाने के कई केस लगातार सामने आए रहे हैं। जिसके बाद एक के बाद करके शिक्षकों के दस्तावेजों की जांच के काम शुरू हो गए हैं। राजधानी में माध्यमिक विद्यालयों में बढ़ने वाले तकरीबन 4000 शिक्षकों के दस्तावजों की जांच के लिए टीम गठित हो गई है। मंगलवार से राजकीय जुबिली इंटर कॉलेजों में शिक्षकों के डॉक्यूमेंट्स की जांच के काम शुरू होगा। 

बता दें कि अनामिका शुक्ला केस के बाद फर्जी शिक्षकों को पकड़ने के लिए शिक्षकों के डॉक्यूमेंट्स की जांच का काम शुरू हो गया है। पहले कस्तूरबा गांधी विद्यालय और फिर बेसिक विद्यालयों में इस तरह के कई मामले सामने आए। इसके बाद राजधानी के बालिका विद्यालयों में भी 98 शिक्षकों की नियम विरुद्ध हुई भर्ती की जांच चल ही रही है। वहीं अब माध्यमिक विद्यालयों में भी शिक्षकों के डॉक्यूमेंट्स की जांच शुरू हो रही है।
डीआइओएस डॉ. मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि दस्तावेजों की जांच के दौरान विद्यालय प्रशासन और शिक्षकों को कोविड-19 के प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करना होगा। उन्होंने बताया कि विद्यालयों की क्रम संख्या के अनुसार उनके शिक्षकों के दस्तावेजों की जांच का समय सुनिश्चित किया गया है।
जमा होंगे ओरिजनल डॉक्यूमेंट्स
शिक्षकों को नियुक्ति के समय प्रस्तुत किए गए सभी डॉक्यूमेंट्स जमा करवाने होंगे। इसमें जाति प्रमाणपत्र निवास प्रमाणपत्र, शैक्षिक अनुभव प्रमाण पत्र समेत सभी ओरिजनल डॉक्यूमेंट्स लाना होगा। इन सभी दस्तावेजों की जांच उनके शैक्षिक बोर्ड द्वारा कराई जाएगी। अभिलेखो व प्रपत्रों की जांच में राजकीय विद्यालय, एडेड स्कूल, संस्कृत विद्यालय के लगभग 400 शिक्षक शामिल होंगे।

Leave a Reply

%d bloggers like this: